उत्तरा न्यूज
अभी अभी अल्मोड़ा

इस गांव के बाल वैज्ञानिक को सलाम-ः अब जूता करेगा मोबाईल को चार्ज, देगा रोशनी इस अविष्कार के बाद राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में करेंगे उत्तराखंड का प्रतिनिधित्व

जीआईसी लमगड़ा का छात्र विनय कपकोटी ने बनाया मोबाईल चार्ज करने वाला बहुउददेशीय जूता

अल्मोड़ा-ः राइका लमगड़ा में कक्षा 12 में अध्यनरत बाल वैज्ञानिक विनय कपकोटी का चयन 45वीं जवाहरलाल नेहरु राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में 23-28 नवम्बर 2018 तक सरदार पटेल स्टेडियम, नवरंगपूरा, अहमदाबाद के लिए हुआ है। युवा वैज्ञानिक विनय ने अपने मार्गदर्शक शिक्षक विनोद कुमार राठौर के साथ बनाये गये बहुउददेशीय जूते का प्रदर्शन राज्य स्तरीय विज्ञान प्रदर्शनी ऋषिकेश में किया गया था। जहां उनके प्रदर्शन को शिक्षा मंत्री एवं अन्य आयोजकों द्वारा काफी सराहा गया। राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में विनय कपकोटी अपने मार्गदर्शक शिक्षक विनोद कुमार राठौर के साथ उत्तराखंड का प्रतिनिधित्व करेंगे। विनय कपकोटी द्वारा एक बहुउददेशीय जूते का निर्माण अपने मार्गदर्शक अध्यापक विनोद कुमार राठौर के निर्देशन में किया है। उनके द्वारा डिजायन किये गये इस खास जूतें से मोबाइल चार्ज होने के साथ-साथ रात में देखने के लिए एलईडी के माध्यम से उजाला भी मिलेगा। उनके द्वारा इस डिजायन किये गये जूतें में लगायी गयी बैटरी विद्युत उर्जा को संरक्षित करेगी तथा उस उर्जा का प्रयोग जब हमें आवश्यकता हो उस समय कर सकते है। आवश्यकता पड़ने पर हम मोबाइल चार्ज करने के साथ-साथ रात को देखने के लिए प्रकाश तथा पॉच वोल्ट तक के विद्युत उपकरणों को चार्ज कर सकते है। इस जूतें में विद्युत उर्जा संरक्षित करने के लिए एक 3.6 वोल्ट (700 मि0ली0 एम्पियर) की एक बैटरी लगायी गयी है। साथ ही इनवेटर सर्किट लगाया गया है जो 3.6 वोल्ट विद्युत उर्जा को 5 वोल्ट विद्युत उर्जा में परिवर्तित करता है। साथ ही एक छोटा गेयर बाक्स लगाया गया है। इसके अलावा 5 वोल्ट की मोटर लगायी गयी है जो एक डायनमों का कार्य करती है। जूतें के आगे एक एलईडी बल्ब लगाया गया है जो रात को देखने के लिए उपयोग में लाया जा सकता है। जूतें के बाहर से एक यू0एस0बी0 पोर्ट लगाया गया है जिसके माध्यम से मोबाइल तथा विद्युत उपकरणों को चार्ज किया जा सकता है।

इस जूते को इस तरह डिजाइन किया गया है कि सारे सर्किट जूतें के तले में फिट आ जाते है। जब कोई भी आदमी जूता पहन कर चलेगा तो उसके साथ तले में लगाया गया गियर चलेगा तथा गियर 5 बोल्ट के डायनमो से जुड़ा है वह भी धुमने लगेगा।

डायनमो एक छोटी मोटर से जुड़ी है। डायनमों के चलने से मोटर चलेगी जिससे विद्युत उर्जा उत्पन्न होगी जो विद्युत उर्जा उत्पन्न होगी वह उससे जुड़ा इनवटर ऑन हो जायेगा जिससे 5 वोल्ट की विद्युत उर्जा उत्पन्न होगी जो तले में लगे बैटरी में संरक्षित होते रहेगी जिससे हम चलते समय या अन्य किसी भी समय अपना मोबाइल चार्ज करने के साथ-साथ रात को चलने के लिए एल0ई0डी0 बल्ब जो जूतें के आगे लगा है उसके माध्यम से उजाला पैदा कर सकते है। इसके अलावा 5 वोल्ट तक के विद्युत उपरण भी चार्ज कर सकते है। मार्गदर्शक शिक्षक विनोद कुमार राठौर ने बताया की इस जूते को खास तौर पर हमारी आर्मी को ध्यान में रखकर डिजाइन किया गया है। क्योकि हमारे सैनिक कई-कई दिनों तक सरहद के जंगलों में रहते है जहॉ विद्युत की कोई व्यवस्था नही हो पाती है, वहॉ पर वे लोग आसानी से अपने मोबाइल को चार्ज कर सकते है। इसके अलावा रात को टार्च की रोशनी से दुश्मनों द्वारा देखे जाने का डर रहता है।

अगर जूतें में आगे लगी एल0ई0डी0 के प्रकाश के माध्यम से जंगलों में रात को आसानी से कैम्बिंग की जा सकती है। प्रकाश सीधे जमीन के उपर पांव की सीध में पडे़गा जिससे दुशमन की नजर सैनिकों पर नही पड़ेगी। बाल वैज्ञानिक विनय कपकोटी ग्रामीण परिवेश से है उनके पिता बहादुर सिंह कपकोटी एक कृषक एवं माता गृहणी है। विनय कपकोटी भविष्य में वैज्ञानिक बन देश सेवा करना चाहते है। वे अपने आदर्श पूर्व वैज्ञानिक ए0पी0जे0 अबदुल कलाम को मानते है।

विनय कपकोटी द्वारा अपनी इस उपलब्धि का श्रेय अपने मार्ग दर्शक शिक्षक विनोद कुमार राठौर, अपने माता पिता तथा विद्यालय के प्रधानाचार्य दिनेश मोहन बिष्ट तथा विद्यालय के समस्त शिक्षकों को दिया है। विनय कपकोटी तथा मार्गदर्शक शिक्षक विनोद कुमार राठौर की इस उपलब्धि पर मुख्य शिक्षा अधिकारी जगमोहन सोनी, जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक एच0बी0 चन्द, जिला शिक्षा अधिकारी बेसिक, आर0एस0 यादव, प्राचार्य डायट राजेन्द्र सिंह, तारा सिंह खण्ड शिक्षा अधिकारी लमगड़ा, प्रधानाचार्य दिनेश मोहन बिष्ट, दिनेश रावत, डॉ0 राजेश वर्मा, त्रिभुवन कुमार, विनोद कुमार, सावित्री टम्टा, बालम कपकोटी, अमर प्रकाश, हरीश कपकोटी, नीरज बिष्ट, डॉ0 भुवन पाण्डेय, प्रकाश त्रिपाठी, राजेश बिष्ट, अनिल पंत, प्रमोद कुमार टम्टा, डॉ0 प्रभाकर जोशी, डॉ0 कपिल नयाल सहित अनेक जनप्रतिनिधियों, शिक्षकों तथा कर्मचारियों द्वारा प्रसन्नता व्यक्त करते हुए छात्र को निकट भविष्य के लिए शुभकामनायें प्रदान की है।

Related posts

उत्तराखंड— लॉक डाउन(Lock Down) में प्राइवेट विद्यालयों के शिक्षकों पर गहराया आर्थिक संकट, सीएम(CM) को भेजा ज्ञापन

UTTRA NEWS DESK

ब्रेकिंग: वाहन की चपेट में आने से 2 साल के मासूम की दर्दनाक मौत(death), परिजनों में मचा कोहराम

UTTRA NEWS DESK

पूर्व टी बोर्ड (Tea Board)उपाध्यक्ष ने उठाये सवाल- गैरसैंण में देहरादून के कार्यालय लाते तो स्वागत होता, अल्मोड़ा से कार्यालय शिफ्ट करना सरकार की मंशा पर उठा रहा सवाल

Newsdesk Uttranews