उत्तरा न्यूज
अभी अभी अल्मोड़ा

आखिर किस हादसे का इंतजार है वन विभाग को, सात ग्रामीणों पर हमले के बावजूद नहीं जागा विभाग,ग्रामीणों के पक्ष में आए कई लोग, भाजपा जिलाध्यक्ष ने वन विभाग से त्वरित कार्रवाई की मांग

आखिर किस हादसे का इंतजार है वन विभाग को, सात ग्रामीणों पर हमले के बावजूद नहीं जागा विभाग,ग्रामीणों के पक्ष में आए कई लोग, भाजपा जिलाध्यक्ष ने वन विभाग से त्वरित कार्रवाई की मांग


अल्मोड़ा- एक शांत गांव में पिछले छह माह दहशत भरे रहे हैं| इन छह माह में गांव में सात लोग गुलदार के हमले में घायल हो चुके हैं| लोग वन विभाग से लगातार इस हमलावर गुलदार को पकड़ने की मांग करते हुए थक गए हैं लेकिन विभाग को मजबूर ग्रामीणों की मजबूरी से कोई सरोकार नहीं है| हालत यह है कि लोग अकेले घर से बाहर निकलने में डर रहे हैं फिर भी काम की मजबूरी के लिए जो ग्रामीण बाहर निकल रहा है उस पर गुलदार हमला कर रहा है|
यहां बात हवालबाग विकासखंड के नैनोली गांव की हो रही है| शुक्रवार को गांव की सरस्वती देवी पत्नी भूपाल सिंह पर गुलदार ने हमला कर दिया| दीगर बात यह है कि इस महिला को पहले भी गुलदार घायल कर चुका है| यह भी महत्वपूर्ण है कि दो दिन में दो दिन में दो महिलाओं को यह गुलदार घायल कर चुका है| ऩिराश ग्रामीण अब दहशत के चलते खुद को बेबस समझ रहे हैं| सामाजिक कार्यकर्ता पूरन पांडे ने बताया कि ग्रामीण गुलदार को पकड़ने की मांग को लेकर पूर्व में भगतोला में आंदोलन कर चुके हैं तब वन विभाग के अधिकारियों ने त्वरित कार्रवाई का आश्वासन दिया था| रेंजर स्तरीय अधिकारी भी गांव में पहुंचे थे लेकिन कार्रवाई के नाम पर कोरे आश्वासन ही मिले हैं| वन विभाग ग्रामीणों को सुरक्षा देने में नाकामयाब रहा है|
इधर भाजपा जिलाध्यक्ष गोविंद पिलख्वाल ने भी वन विभाग से तत्काल गांव में पिंजरा लगा गुलदार को पकड़ने की मांग की है| उन्होंने कहा कि उन्होंने इस संबंध में डीएफओ से भी वार्ता की है यदि जल्द कार्यवाही नहीं की गई तो ग्रमीणों के साथ मिलकर निर्णायक आंदोलन किया जाएगा| क्षेत्रीय सामाजिक कार्यकर्ता व युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष महेश नयाल ने भी वन विभाग के रवैये की कड़ी निंदा करते हुए जल्द गुलदार को पकड़ने की मांग की है|

Related posts

पदोन्नति में आरक्षण मुद्दे पर चितई गोलज्यू दरबार में पहुंचे जनरल ओबीसी कर्मी, मंदिर में लगाई जागर(jagar)

तो ऐसे होगा उत्तराखंड में पर्यटन विकास, पर्यटक स्थल शीतलाखेत—मटीला मोटर मार्ग में छह किमी की दूरी में छह साल से नहीं हो पाया डामरीकरण,बरसात में इस सड़क से गुजरना मतलब जान जोखिम में डालना

Newsdesk Uttranews

OMG! रंजिश के चलते श्रमिक को जिंदा जलाने की कोशिश,सरे राह पेट्रोल डालकर आग में झोंका