उत्तरा न्यूज
अभी अभी अल्मोड़ा उत्तराखंड संस्कृति

जागेश्वर में श्रावणी मेले का आगाज : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने किया उदघाटन

अल्मोड़ा। जागेश्वर में श्रावणी मेला आज से शुरू हो गया है। उदघाटन करते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अपन संबोधन में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ-साथ विलुप्त हो रही संस्कृति के संरक्षण के की बात भी कही। कहा कि जागेश्वर मन्दिर समूह बाहरी पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए बरबस ध्यान खींचता है इसके संरक्षण सहित सौन्दर्यीकरण पर हमें ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिये धार्मिक व पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण मेलां के आयोजन हेतु वार्षिक कलैण्डर तैयार कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जागेश्वर क्षेत्र पर्यटन मानचित्र में अपनी विशिष्ट पहचान बना चुका है अब इसे पांचवे धाम के रूप में विकसित करने के लिए सामूहिक प्रयास करने होंगे। मुख्यमंत्री ने जागेश्वर क्षेत्र में जटा गंगा के किनारे भूमि कटाव को रोकने के लिये हमें चैकडैम बनने के लिये प्रयास करने को भी कहा। मुख्यमंत्री ने जागेश्वर में सीवर लाइन का प्रस्ताव सर्वेक्षण करने के पश्चात तैयार करने की बात कही। कहा कि प्लान इस तरह से तैयार किया जायेगा जिससे जटा गंगा प्रदूषित ना हो। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश दिये कि सीवर का पानी जटा गंगा में न जाने पाये इसके लिये लोगों को 3 माह का समय दिया जाय, उसके बाद भी अगर इसमें सीवर का पानी जाता है तो उस पर कडी कार्यवाही करने की मुख्यमंत्री ने कहा अगले शैक्षिणक सत्र में अल्मोड़ा मेडिकल कालेज में कक्षायें प्रारम्भ करने का दावा करते हुए कहा कि इसके लिये धनराशि के व्यवस्था की जा रही है। कहा कि शिक्षा में गुणात्मक सुधार लाने के लिये हिम ज्योति फाउण्डेशन के सहयोग से एक उच्च स्तरीय आवासीय बालिका विद्यालय खोलने के प्रयास गतिमान है और भूमि का चयन कर लिया गया है । कहा कि विद्यालय में सरकारी विद्यालय से कक्षा 5 पास करने वाली बालिकाओं को निःशुल्क प्रवेश दिया जायेगा। इसके अलावा एक अर्न्तराष्ट्रीय स्तर का विद्यालय भी खोलने की योजना है जिसमें निर्धन परिवारों के मेधावी बच्चों को प्रवेश दिया जायेगा इसके लिये आयुक्त कुमाऊॅ मण्डल व जिलाधिकारी को भूमि चयन करने के निर्देश दिये गये है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मेला परिसर में सफाई व्यवस्था बनी रहे इसके लिये जिला प्रशासन व मन्दिर समिति द्वारा कूडेदानों की व्यवस्था की गई है साथ ही बायो टॉयलेटों का निर्माण व प्लास्टिक के लिये कॉॅम्पेक्टर प्लांट भी लगाया गया है। जागेश्वर क्षेत्र में बाहर से आने वाले पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिये वन विभाग द्वारा इस क्षेत्र. में एक जैविक फार्म विकसित किया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि मेले के दौरान बाहर से आने वाले श्रद्धालु व पर्यटकों को किसी प्रकार की असुविधा न हो इसका विशेष ध्यान मंदिर समिति द्वारा रखा जाय। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये क्षेत्रीय विधायक व पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गोविन्द सिंह कुंजवाल ने कहा कि जागेश्वर धाम को 5वें धाम के रूप में विकसित करने हेतु सभी को सामूहिक प्रयास करने होंगे। उन्होंने एक मुख्यमंत्री को सौंपे ज्ञापन में गुरूड़ाबॉज में स्थित हरि प्रसाद टम्टा शिल्प संस्थान को धनराशि आवटित करने, जटा गंगा में छोटे-छोटे चैकडेम व तालाब बनाने एवं लंबित पम्पिंग योजनाओ एवं मोटर मार्गों का शीघ्र निर्माण करने की मांग की।
किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सुभाष पाण्डे ने कहा कि मुख्यमंत्री के जागेश्वर में आने से यहां पर विकास कार्यों को गति मिलेंगी। उन्होंने 28 सूत्रीय मांग पत्र सौंपकर और उन पर प्राथमिकता के आधार पर समस्याओ ंके निस्तारण का अनुरोध किया।  प्रदेश के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी0 रेणुका देवी, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट््ट, संयुक्त मजिस्ट्रेट हिमाशुं खुराना, उपजिलाधिकारी अवधेश कुमार सिंह, भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष कुन्दन लटवाल, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष केदार जोशी, ब्लाक प्रमुख पीताम्बर पाण्डे, कनिष्ठ प्रमुख प्रकाश भट््ट,रमेश बहुगुणा, मंदिर समिति के प्रबन्धक भगवान भट््ट, पूर्व प्रबन्धन प्रकाश भट्ट, प्रधान हरि मोहन भट््ट, भगवान भटट, प्रकाश भट्ट, गिरीश भट्ट, हेमन्त भटट, सहित अन्य जनप्रतिनिधि व अधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन उपाध्यक्ष गोविन्द गोपाल ने किया।

Related posts

ब्रेकिंग — उत्तराखंड में 8 और लोगों में कोरोना(Corona) की पुष्टि, अल्मोड़ा में 1 नया केस, 1153 पहुंचा आंकड़ा

UTTRA NEWS DESK

road accident— अल्मोड़ा में खाई में गिरी कार, 3 महिलाएं घायल

Newsdesk Uttranews

वरिष्ठ व्यापारी प्रेमचंद गुप्ता का आकस्मिक निधन , व्यापारियों ने जताया शोक

उत्तरा न्यूज डेस्क