उत्तरा न्यूज
अभी अभी अल्मोड़ा

बिना सैनिकों का सेनापति बन कर रह गया है वन विभाग, फायर सीजन में कैसे निपटेगा दवानल से, अभी से धधकने लगे हैं जंगल, कोसी पुनर्जीवन अभियान के तहत रोपे गए पौंधों को बचाने की है चुनौती

यहां देखें वीडियो

photo -uttranews

अल्मोड़ा:- इस समाचार में जिन चित्रों को लगाया गया है वह वन विभाग की चुनौतियों को आने वाले फायर सीजन में और बढ़ाने वाला है, क्योंकि अल्मोड़ा सहित चार जिलों में विभाग की हालत बिना सैनिकों के सेनापति जैसी हो गई है, यहां फील्ड कार्मिकों के विभिन्न पदों पर मानकों से 513 कर्मचारी कम हैं, कर्मचारियों की यह कमी आने वाले फायर सीजन की प्लानिंग पर भारी पड़ सकती है| आंकड़े खुद विभाग के अधिकारी बयां कर रहे हैं |

photo -uttranews

कुमांऊ के उत्तरी वृत के अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, चंपावत और बागेश्वर में फील्ड स्टाफ की भारी कमी हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि कैसे वन विभाग दावानल से निपटेगा? और कैसे मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट में रोपे गये लाखों पेड़ों को बचायेगा।


कुमांऊ के उत्तरी वृत में अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ बागेश्वर ,चंपावत जिले आते हैं यहां 1296 कर्मचारियों के सापेक्ष 513 पद खाली हैं. फारेस्ट गार्ड के 220 कर्मचारियों की और वन दरोगा के 119 पद खाली चल रहे हैं। यही नही 15 पद रैंजर के भी खाली हैं। वन संरक्षण उत्तरी वृत्त डा. आईपी सिंह ने बताया कि कर्मचारियों की कमी के बारे में अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है |


कांग्रेस जिलाध्यक्ष पीतांबर पांडे ने कहा कि कर्मचारियों की कमी सीएम के कोसी नदी के पुनर्जनन पर सवाल खड़े कर देगी लाखों पौधों की सुरक्षा कैसे हो पाएगी |
बताते चलें कि उत्तराखण्ड का एक बड़ा भू-भाग वनो से घिरा हैं, ऐसे में गर्मी के मौसम में हर वर्ष आग लगने से करोड़ों की वन संपदा नष्ट हो जाती हैँ। इस बार कोसी पुनर्जनन अभियान के तहत एक दर्जन से अधिक स्थानों पर वृहद वृक्षा रोपण किया हैं , इन पेड़ों को आग से बचाना वन विभाग के लिए चुनौती हैँ। ऐसी स्थिती में वन विभाग के सामने बिना सैनिकों के सेनापति की जैसी स्थिती हो गयी है|

photo -uttranews

यह भी दीगर बात है कि फौरेस्ट फायर को नियंत्रित करना काफी जोखिम भरा होता है एक व्यक्ति अधिक देर तक आग बुझाने का काम नहीं कर सकता उसे तय समय पर रिलीवर की जरूरत पड़ती है लेकिन कर्मचारियों की कमी योजना पर भारी पड़ सकती है |
इस पूरी बात कहने की जरूरत इसलिए पड़ी कि जंगल जनवरी माह में ही धधकने लगे हैं, रविवार को हवालबाग विकासखंड का मैणी गांव का जंगल सुबह ही दवानल की चपेट में था | जल्द ही आग ने पूरे जंगल को अपनी चपेट में ले लिया, मार्ग से गुजर रहे केन्द्रीय राज्यमंत्री अजय टम्टा व डीएम नितिन भदौरिया की नजर भी आग पर पड़ी, डीएम ने कहा कि विभाग को जानकारी दे दी गई है जल्द ही नियंत्रण कर लिया जाएगा, मंत्री ने भी आग पर नियंत्रण करने के लिए जनसहयोग की बात कही वहीं डीएम ने कहा कि आड़ा फूंकने के चलते भी वनों में आग लग रही है इस हालत  में प्रशासन टैंकर को तैयार रखेगा और भविष्य में जंगलों को बचाने का पूरा प्रयास किया जाएगा |

Related posts

पिथौरागढ़ में लंबित मार्गों को लेकर विधायक ने की सचिव से वार्ता

Newsdesk Uttranews

सरकार की बेरुखी के खिलाफ विधायक धामी(harish Dhami) ने रखा उपवास..सीएम व सरकार व उठाए सवाल

UTTRA NEWS DESK

लोस चुनावों में किसी भी दल के समर्थन को जनअधिकार मंच की ना, स्थानीय मुद्दों की उपेक्षा का आरोप लगाया