उत्तरा न्यूज
अभी अभी

शिक्षा में सृजनशीलता का प्रश्न और मौजूदा व्यवस्था भाग 17

शिक्षा में सृजनशीलता का प्रश्न और मौजूदा व्यवस्था पर महेश चन्द्र पुनेठा का यह लेख किश्तों में प्रकाशित किया जा रह है, श्री पुनेठा मूल रूप से शिक्षक है, और शिक्षा के सवालो को उठाते रहते है । इनका आलोक प्रकाशन, इलाहाबाद द्वारा ”  भय अतल में ” नाम से एक कविता संग्रह  प्रकाशित हुआ है । श्री पुनेठा साहित्यिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों द्वारा जन चेतना के विकास कार्य में गहरी अभिरूचि रखते है । देश के अलग अलग कोने से प्रकाशित हो रही साहित्यिक पत्र पत्रिकाओ में उनके 100 से अधिक लेख, कविताए प्रकाशित हो चुके है ।

शिक्षा में सृजनशीलता का प्रश्न और मौजूदा व्यवस्था भाग 17 

भयमुक्त वातावरण : विचार और वास्तविकता

यदि गौर से देखें तो पाएंगे कि दुनिया छोटी-बड़ी सत्ताओं का एक संजाल है। परिवार से लेकर देष और दुनिया के स्तर तक अनेक सत्ताएं ही सत्ताएं हैं। परिवार से ही षुरू कीजिए-मुखिया की परिवार के सदस्यों पर, पति की पत्नी पर, सास की बहू पर, माता-पिता की बच्चों पर, जेठानी की देवरानी पर, हर बड़े की अपने से छोटे पर सत्ता। परिवार से बाहर आ जाइए-गुरु की षिश्य पर, पुरोहित की जजमान पर, ताकतवर की कमजोर पर, अधिक जानकार की कम जानकार पर, पढ़े-लिखे की अनपढ़ पर, खूबसूरत की बदसूरत पर, बड़ी जाति वाले की छोटी जाति वाले पर, अधिक पैसे वाले की कम पैसे वाले पर, बहुसंख्यक की अल्पसंख्यक पर, षहर की गांव पर ,बड़े देष की छोटे देष पर सत्ता। हर एक की कोषिष रहती है कि पदसोपान क्रम में उससे नीचे का व्यक्ति या संस्था उसकी आज्ञा का अक्षरषः पालन करे। थोड़ी भी ढील ऊपर वाले को बर्दाष्त नहीं होती है। अपने वर्चस्व को बचाए रखना उसकी प्राथमिकता में रहता है। सत्ता अपनी बात मनवाने के लिए हमेषा से भय का सहारा लेती आ रही है। उसके द्वारा भय बनाने के लिए साम,दाम,दंड,भेद आदि सभी तरीकों का इस्तेमाल किया जाता रहा है। वह मनुश्य के भीतर काल्पनिक भय पैदा करने से भी बाज नहीं आती है। इतना ही नहीं मनुश्य के भीतर बैठे भय का इस्तेमाल कर अपनी जरूरत को सिद्ध करती है। सत्ता में बैठे लोगों के भीतर भी एक डर है, जैसा कि हिंदी के जनपक्षधर कवि गोरख पांडे अपनी कविता में कहते हैं-वे डरते हैं/कि एक दिन/निहत्थे और गरीब लोग/उनसे डरना/बंद कर देंगे।’ इसलिए वह भय को बनाए रखना चाहती है। भय, हमेषा सत्ता के हित में होता है लेकिन जिसे भय से संचालित किया जाता है उसे भय हर तरह से हानि पहुंचाता है।

भय, केवल व्यक्तित्व विकास को ही अवरुद्व नहीं करता है बल्कि भय एक ऐसा पेनकिलर है जो तात्कालिक राहत भले देता हो, लेकिन भयग्रस्त व्यक्ति में झूठ,पाखंड,चोरी,नकल,बहानेबाजी जैसी अनेक मानसिक विकृतियों को जन्म दे जाता है। भय मनुश्य को अविष्वासी बना देता है। अविष्वास मनुश्य को कमजोर करता है। उसका आलोचनात्मक विवेक खो जाता है तथा आत्मविष्वास कमजोर पड़ जाता है। एक भय दूसरे भय को जन्म देता है और इस तरह भय का दुष्चक्र चल पड़ता है। भय का यह दुष्चक्र किसी भी कार्य को तन्मयता से नहीं करने देता है। भयग्रस्त व्यक्ति प्रष्न करने का साहस भी नहीं कर पाता है। प्रतिरोध तो बहुत दूर की बात रही। वह अपने साथ होने वाली जोर-जबरदस्ती और अन्याय को अपनी नियति मान लेता है। इस तरह एक ऐसी पीढ़ी तैयार होती है जो डरी-सहमी और दब्बू होती है। जो अपने से ताकतवर की आज्ञा मानने के लिए हरदम तैयार रहती है। हां ,यदि अवसर मिले तो वह अपने से कमजोर को भयग्रस्त करने की कोषिष अवष्य करती है, ऐसा करना उसे नैतिक दृश्टि से भी गलत नहीं प्रतीत होता है। अपनी पत्नी, बच्चों और नौकरों पर हिंसा करने वाले लोग ऐसे ही होते हैं। भय, व्यक्ति को अपराध और प्रतिहिंसा की ओर भी प्रवृत्त करता है। दुनिया के तमाम हिंसक और आतंकी लोगों का मनोवैज्ञानिक अध्ययन किया जाय, वे किसी न किसी भय से ग्रस्त मिलेंगे, भले ही वह काल्पनिक ही हो। घृणा, रागद्वेश और क्रूरता भय की ही उपज है। भयग्रस्त आदमी किसी को प्रेम कर ही नहीं सकता।

हमारे चारों ओर भय ही भय व्याप्त हैं। हम भय से संचालित हैं और यही सबसे बड़ी गड़बड़ी का कारण है। इसी का परिणाम है कि जैसे ही कहीं तनिक भय कम हुआ नहीं या निगरानी रखने वाला नजरों की ओट हुआ नहीं, हम अराजक होने लगते हैं। यदि हम बोध से संचालित होते तो ऐसा नहीं होता, इसलिए भय नहीं बोध से संचालित समाज एक अच्छा समाज होता है। भय से संचालित व्यक्ति दूसरे को भी भयग्रस्त करता है। अपने भीतर के भय को दूसरे में संक्रमित करना चाहता है। इतना ही नहीं लगातार भय बना रहना मस्तिश्क को भी गहरे आघात पहुंचाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार भय के लगातार बने रहने से अवसाद, रक्तचाप और नासूर जैसे रोगों के होने का खतरा होता है। अत्यधिक तनाव के चलते व्यक्ति अपने जीवन तक को खतरे में डाल देता है। अपनी गलतियों या सीमाओं को दूसरों के साथ नहीं बांट पाता है, उन्हें छुपाने लगता है। नषे का षिकार हो जाता है। आत्महत्या तक कर डालता है।

बावजूद इसके सत्ता द्वारा हमेषा भय को उसके हित में ही बताया जाता है जिसके खिलाफ उसे इस्तेमाल किया जाता है। आष्चर्य यह है कि भय का षिकार व्यक्ति स्वयं भी उसे अपने हित में मानता है। सत्ता भय के पक्ष में अपने तर्क गढ़ती है। उसे महिमामंडित करते हुए आवष्यक आवष्यकता घोशित करती है। व्यवस्था या अनुषासन बनाने के लिए उसे जरूरी बताती है। यहां तक कहने में भी गुरेज नहीं करती है कि भय के बिना प्रेम भी संभव नहीं है। हमारी स्कूल जैसी संस्थाएं लंबे समय से इन तर्कों का इस्तेमाल करती आ रही हैं। इस रूप में वे हमेषा राजनैतिक सत्ता की मददगार साबित हुई हैं इसलिए चहेती भी, लेकिन इधर, षिक्षा में हुए कुछ महत्वपूर्ण प्रयोगों और अध्ययनों के दबाब तथा लोकतांत्रिक चेतना के विस्तार के चलते विद्यालय को आनंदालय बनाने की बात होने लगी है, जिसमें बच्चे को भयमुक्त वातावरण और स्वतंत्रता देने पर बल दिया जा रहा है। षिक्षा के महत्वपूर्ण दस्तावेजों में यह स्वीकार किया गया है कि बच्चे के स्वस्थ एवं संतुलित व्यक्तित्व के विकास के लिए भयमुक्त वातावरण का होना जरूरी है। सीखने की प्रक्रिया भयमुक्त वातावरण में ही संभव है। बच्चा वहीं सीखता है, जहां उसे महत्वपूर्ण माना जाता है। आज षिक्षा का एक उद्देष्य ज्ञात-अज्ञात कारणों से बच्चे के भीतर पैठे भय से उसे मुक्त करना भी माना जा रहा है। बच्चा एक स्वतंत्रचेता मनुश्य तभी बन सकता है, जब उसका मन-मस्तिश्क प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष भयों से मुक्त हो। यह मुक्ति भय के द्वारा संभव नहीं है। भय मनुश्य को अंधभक्त बना सकता है, अनुयायी बना सकता है, स्वतंत्रचेता तथा अन्वेशक नहीं। भय के द्वारा नकल करना सिखाया जा सकता है, मौलिक चिंतन करना नहीं। चिंतन के लिए संवाद जरूरी है जबकि भय संवाद की संभावना समाप्त कर देता है। जहां भय होता है, वहां निर्देष और आज्ञापालन तो हो सकता है, संवाद और प्रष्न नहीं। भय से केवल मषीनी कार्य करवाए जा सकते हैं। बच्चे को भय दिखाकर हम कहीं न कहीं अप्रत्यक्ष रूप से बच्चे को भी दूसरे को भयग्रस्त करने की षिक्षा देते हैं-यदि कोई आपकी बात नहीं मानता है या गलती करता है तो उसे भय दिखाया जाय।

भय के इन दुश्प्रभावों को देखते हुए ही षिक्षा अधिकार अधिनियम के अंतर्गत षारीरिक और मानसिक दंड को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। यह कहा जा रहा है कि बच्चे को भय दिखाने की नहीं बल्कि उससे आत्मीय संवाद करने की जरूरत है ताकि उसके भीतर सही-गलत के बीच अंतर करने का एक बोध पैदा हो। यह नहीं भूलना चाहिए कि बोध कभी भी भय से पैदा नहीं किया जा सकता है। यदि भय से पैदा करने की कोषिष करेंगे तो सजा का डर खत्म होते या अभी कौन देख रहा है, का भाव पैदा होते ही, अपनी मनमानी करने लग जाएगा। उसके भीतर की गलत प्रवृत्तियां खत्म नहीं होंगी, मौका मिलते ही फिर उभर आएंगी। दरअसल गलत प्रवृत्तियां दमन और कुंठा के परिणाम होती हैं। भय बच्चे के लिए लू है, उसे गुनगुनी धूप समझने की भूल नहीं की जानी चाहिए।

स्कूल में भयमुक्त वातावरण बनाने में षिक्षक की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका मानी गई है, पर यहां कुछ प्रष्न खड़े होते हैं कि क्या बंधे-बंधाए ढांचे तथा अभावग्रस्त विद्यालयों, जहां बच्चों के बैठने तक की उचित व्यवस्था नहीं है, स्वच्छ पानी, षौचालय और खेल के मैदान की बात तो दूर रही, ऐसे में क्या भयमुक्त वातावरण का सृजन संभव है? भयमुक्त षिक्षण के लिए जिस बड़े धैर्य, कल्पनाषीलता, अध्ययन और उच्चकोटि के कौषल की आवष्यकता होती है क्या हमारे षिक्षक उससे लैस हैं? क्या एक ऐसा षिक्षक जिसका खुद का भविश्य सुनिष्चित नहीं है और तमाम तरह के भय एवं दबावों से संचालित है, उससे इन बातों की आषा की जा सकती है? उदाहरण के लिए परीक्षा को ही ले लिया जाय।

परीक्षा अपने-आप में एक बड़ा भय है जिसके दबाब में न केवल बच्चा बल्कि षिक्षक भी रहता है। दोनों की कोषिष परीक्षा को साधने की रहती है। परीक्षा परिणामों के आधार पर ही षिक्षक का मूल्यांकन होता है। परीक्षा में अधिक अंक गुणवत्ता की एकमात्र कसौटी मानी जाती है। अतः षिक्षक की कोषिष रहती है कि येनकेन प्रकारेण परीक्षा को साधा जाय। बच्चे की रूचि हो या न हो, उसे पढ़ने को मजबूर किया जाता है। जब षिक्षक स्वयं दबाब में हो तो उससे दबाबमुक्त या रूचिकर षिक्षण की आषा कैसे की जा सकती है ? परीक्षा जब खास तरह के कौषलों और दक्षताओं के मापन का माध्यम बन जाय तब षिक्षक की मजबूरी बन जाती है कि वह बच्चों में उन्हीं खास कौषलों और दक्षताओं के विकास के लिए षिक्षण करे। क्या परीक्षा केंद्रित हो चुकी ऐसी षिक्षा में षिक्षक के लिए भयमुक्त होकर षिक्षण करना संभव है?

इसी तरह जब बच्चे के चारों और तमाम तरह के भय और तनाव मौजूद हैं-भूत-प्रेत या ईष्वर का भय, छोटी सी गलती में भी अपमानित होने का भय, अपने प्रिय को खो देने का भय, दुर्घटना का भय, अलग-थलग हो जाने का भय, सपने टूट जाने का भय, प्रतियोगिता में असफल हो जाने का भय, पीछे छूट जाने का भय, मजाक उड़ाए जाने का भय, आतंकवाद का भय, ठगे जाने का भय, लूटे जाने का भय, अनिष्चित भविश्य का भय, जंगली जानवरों का भय आदि, तो क्या उसे केवल विद्यालय को आनंदालय बनाकर भयमुक्त किया जा सकता है? क्या यह काम अकेले षिक्षक द्वारा किया जा सकता है?

भयमुक्त वातावरण बनाने के लिए विद्यालय में पर्याप्त मानवीय और भौतिक संसाधनों का होना पहली षर्त है। अतिषय काम के बोझ तले दबे षिक्षक भयमुक्त वातावरण का सृजन नहीं कर सकते हैं। भयमुक्त कह देने से वातावरण भयमुक्त नहीं हो जाता है और न केवल परीक्षा के भय को कम करने के नाम पर कुछ सुधार कर देने से। भयमुक्त वातावरण बनाने के लिए जिस तैयारी की आवष्यकता है, अभी तक उसकी नितांत कमी है। भयमुक्त वातावरण का मतलब बच्चों की ओर से मुंह मोड़ लेना नहीं होता है। ऐसा नहीं होता है कि वे जो चाहें उन्हें करने दिया जाय। भयमुक्त वातावरण में तो स्कूल और षिक्षक की जिम्मेदारी और अधिक बढ़ जाती है। अतिरिक्त प्रयासों की जरूरत पड़ती है। बच्चों को भय दिखाकर पढ़ना तो आसान होता है, भय के बिना पढ़ाने के लिए तो षिक्षक को अतिरिक्त कल्पनाषील और रचनात्मक होने की आवष्यकता पड़ती है। उसे नित नए प्रयोग करने होते हैं। षिक्षण के प्रभावषाली तरीके खोजने पड़ते हैं। दुर्भाग्य यही है कि हमने भयमुक्त षिक्षा की बात तो स्वीकार कर ली लेकिन उस दिषा में की जाने वाली आवष्यक तैयारी अभी तक नहीं कर पाए हैं। भयमुक्त षिक्षा एक जुमला बनकर रह गया है।

भयमुक्त षिक्षा के लिए पूरे ढांचे को बदलने की आवष्यकता है। षिक्षक ही नहीं अधिकारियों-जनप्रतिनिधियों का दृश्टिकोण बदलने की जरूरत है। हमारे षिक्षक प्रषिक्षण इस कोटि के नहीं हैं कि वे षिक्षकों को इतना क्षमतावान बना सकें कि वे बिना भय के बच्चों को सिखाने में सक्षम हों। जब षिक्षक प्रषिक्षण डिग्रियां बेची जा रही हों तो कल्पना की जा सकती है कि कैसे षिक्षक तैयार हो रहे होंगे। इसके लिए षिक्षक षिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाए जाने की आवष्यकता है। भयमुक्त षिक्षा का औजार तो हमने पकड़ लिया लेकिन उसे चलाने का कौषल और उसकी समझ हमारे पास नहीं है, जिसके चलते अपेक्षित परिणाम नहीं प्राप्त हो पा रहे हैं। स्कूल में भयमुक्त वातावरण का सृजन केवल षिक्षक के हाथ में नहीं है इसके लिए परिवार ,समुदाय ,स्कूल,षिक्षक,प्रषासन और सरकार को मिलकर काम करना होगा। किसी एक संस्था या व्यक्ति पर इसे छोड़ा नहीं जा सकता है।

जारी ……………………………

Related posts

विद्युत व पेयजल विहीन विद्यालयों की सूची तैयार करे उप शिक्षा अधिकारी, डीएम ने शि​क्षा विभाग की समीक्षा बैठक में दिए ये निर्देश

Newsdesk Uttranews

बधाई: पूर्व छात्रसंघ सचिव रवि​ कुमार ने नेट परीक्षा में लहराया परचम, खुशी की लहर

UTTRA NEWS DESK

बड़ी खबर- मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan)की कोरोना रिपोर्ट पाँजीटिव