उत्तरा न्यूज
अभी अभी उत्तराखंड टनकपुर

डॉ0 ऐ0 पी0 जे0 अब्दुल कलाम प्रौद्योगिकी संस्थान में, देश के प्रथम उपराष्ट्रपति डॉ0 सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के जन्मदिन के अवसर पर छात्र- छात्राओं द्वारा शिक्षक दिवस मनाया गया।

, डॉ0 ऐ0 पी0 जे0 अब्दुल कलाम प्रौद्योगिकी संस्थान में, देश के प्रथम उपराष्ट्रपति डॉ0 सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के जन्मदिन के अवसर पर छात्र- छात्राओं द्वारा शिक्षक दिवस मनाया गया। इस अवसर पर संस्थान के निदेशक डॉ0 अमित अग्रवाल जी ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए डॉ0 कृष्णन जी के जीवन पर प्रकाश डाला तथा उनके जीवन से सीख लेने के लिए आग्रह किया। इस अवसर पर, विद्यार्थियों की ओर से शिक्षकों को उपहार भी प्रदान किये गये व शानदार कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। कार्यक्रम का संचालन सिविल इंजीनियरिंग के छात्र योगेश आर्या तथा छात्रा फरीना अंसारी ने किया तथा मयंक प्रसाद, निगम मलिक, सूरज चंद, निकिता जोशी, आँचल सिंह, प्रांजल गुप्ता आदि का सहयोग सराहनीय रहा।
कार्यक्रम में बेहतर व्यवस्था के लिए शिक्षकों ने सभी विद्यार्थियों के उचित प्रयासों की सराहना करी।
शिक्षक दिवस के अवसर पर डॉ0 ऐ0 पी0 जे0 अब्दुल कलाम प्रौद्योगिकी संस्थान, टनकपुर में क्षेत्रीय उपजिलाधिकारी दयानन्द सरस्वती द्वारा ‘सामाजिक जागरूकता’ विषय पर व्याख्यान दिया गया। उपजिलाधिकारी ने का स्वागत संस्थान के निदेशक अमित अग्रवाल ने किया। इससे पूर्व विभिन्न पदों पर कार्य कर चुके दयानंद सरस्वती ने अपने जीवन के अनुभव छात्र- छात्राओं के साथ साझा किए तथा आज के विभिन्न सामाजिक मुद्दों, कुरीतियों पर अपने विचार रखे। उन्होंने आह्वान किया कि सरकार द्वारा बनाये गए नियम-कानून समाज के भले के लिए बनाए गए हैं तथा सभी को इनका पालन ईमानदारी के साथ करना चाहिए। इसके बाद छात्र- छात्राओं ने अपने प्रश्न/समस्याएं उपजिलाधिकारी के सम्मुख रखी, जिनका उन्होंने भली प्रकार समाधान बताया। कार्यक्रम के अंत में संस्थान के निदेशक डॉ0 अग्रवाल द्वारा उन्हें स्मृति चिन्ह देकर उनका आभार व्यक्त किया गया।

Related posts

अल्मोड़ा में बेखौफ व बेफिक्र हो गए हैं चोर, पुलिस की गश्त को आइना दिखा चोरों नें खंगाल डाली सर्राफ की दुकान

उत्तराखंड: रोडवेज बस चालक के साथ मारपीट, घर लौट रहे प्रवासियों (migrants) को बनाया बंधक

Newsdesk Uttranews

प्रतिभा दिवस में बच्चों ने दिखाया अपना रचनात्मक कौशल, दीवार अखबार व ऐपण का किया निर्माण, कृष्ण की बाल लीलाओं के प्रसंग का किया अंग्रेजी मंचन