उत्तरा न्यूज
अपराध अभी अभी अल्मोड़ा

विष्णु मंदिर डोल में हुए हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा

3 को किया गिरफ्तार 1 ने पूछताछ के बाद कर ली थी आत्महत्या

अल्मोड़ा। विगत 29 सितम्बर को शहर फाटक के पास विष्णु मंदिर डोल में हुई बाबा की हत्या का खुलासा हो गया है। पुलिस ने तीन को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस तीनो को अदालत में पेश करने के बाद रिमांड में लेने का प्रयास करेगी।
यहाँ एसएसपी कार्यालय में हत्या कांड का खुलासा करते हुए एसएसपी पी रेणुका देवी ने बताया कि तीनों ने हत्या में संलिप्त होने की बात स्वीकार कर ली है।
ज्ञातव्य हो कि विष्णु मंदिर में रहने वाले बाबा भुवन चंद्र फुलारा पुत्र गोविन्द बल्लभ फुलारा 18 सितम्बर के आसपास से मंदिर में नहीं दिखायी दे रहे रहे। 29 सितम्बर को विष्णु मंदिर के पास बाबा की लाश बरामद हुई थी।
मामले में पुलिस की जाँच के बाद एक व्यक्ति नंदन सिंह ने आत्महत्या कर ली थी। पुलिस ने डोल निवासी दीपक सिंह से पूछताछ की तो उसने हत्या की बात स्वीकारते हुए तीन अन्य के इस मामले में संलिप्त होने की बात स्वीकार की । जिसमे से नंदन सिंह ने आत्महत्या कर ली थी। पुलिस के अनुसार दीपक सिंह ने बताया की कक्षा 9 में पढ़ने वाले उसके भाई ने मंदिर में चोरी की थी। और बाबा उसके भाई को पकड़कर मोरनौला चौकी में ले गए थे।  उसके माता पिता के माफी मांगने के बाद लिखित में शिकायत नही की थी।
पुलिस के अनुसार दीपक का कहना है कि उस दिन के बाद से बाबा उसे व उसके परिवार के लोगों के दिखने पर डांटते रहते थे। और दीपक इस बात को जानने के लिये 19 सितंबर को बाबा के पास गया तो बाबा ने उसे पकड़कर कुटिया में बंद कर लिया। और उसके साथ मारपीट की । किसी तरह से बाहर आने पर उसे अपने चाचा नंदन सिंह ओर यतेन्द्र सिंह वही मेन रोड मे प्रतीक्षालय के पास मिले और उन्हे सारा वाक्या सुनाया।
इसके बाद दीपक के अपने दोस्त सूरज फर्त्याल को फोन करके मंदिर में आने को कहा। और तीनो मंदिर को चले गये वहा जाकर उसके चाचा नंदन सिंह बाबा के ऊपर झपट पड़े और बाबा को जमीन पर​ गिरा दिया। इसके बाद सूरज और दीपक ने ​बाबा के ​हाथ पकड़ लिये और बेहोश हो चुके बाबा को उठाकर मंदिर के पास बहने वाले गधरे के पास बने चैकडेम में ले गये और पानी में डुबोकर हत्या कर दी और लाश को पत्थरों से ढक दिया। इस दौरान चौथा व्यक्ति् यतेन्द्र मंदिर के मुख्य गेट के पास चौकीदारी कर रहा था।

सूरज के पास से पुलिस ने एटीएम कार्ड और पासबुक जिसमें 20 हजार रूपये जमा थे बरामद किये। इस मामले में चौथे अभियुक्त नंदन सिंह ने पूछताछ के बाद आत्महत्या कर ली थी। पुलिस के अनुसार दीपक फर्त्याल और सूरज फर्त्याल ने मिलकर पूर्व में भी मंदिर में चोरी की थी।
पुलिस टीम में थानाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह बिष्ट, उप निरीक्षक अनीश अहमद, कास्टेबल जगदीश, राकेश भट्ट के साथ पूरी एसओजी की टीम शामिल रही। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी रेणुका देवी ने पुलिस टीम को 2500 रूपये के इनाम देने की घोषणा की है।

Related posts

Uttarakhand:: सीएम धामी पहुंचे पिथौरागढ़, आपदा प्रभावित क्षेत्र का कर रहे हवाई सर्वेक्षण

Newsdesk Uttranews

अल्मोड़ा में सोमवार को खुल रहा है THE KUMAUN KITCHEN, आप भी है आमंत्रित

Newsdesk Uttranews

ललित जोशी बने सचिवालय एथलेटिक्स एंड फिटनेस क्लब (Secretariat Athletics and Fitness Club)के अध्यक्ष

Newsdesk Uttranews