उत्तरा न्यूज
अभी अभी अल्मोड़ा

किसानों को खेती की उन्नत तकनीक देना वक्त की जरूरत-डीएम

डीएम व वीपीकेएएस के निदेशक ने किया रबी कृषि मेले का उद्घाटन

अल्मोड़ा:- पर्वतीय क्षेत्रों से पलायन को रोकने के लिए विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान की अहम भूमिका रहेगी यह बात जिला अधिकारी नितिन सिंह भदोरिया ने आज विवकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान प्रयेागात्मक प्रक्षेत्र हवालबाग मे आयोजित किसान मेले के शुभारम्भ के अवसर पर कही। उन्होंने कहा की हमें किसानो को पर्वतीय क्षेत्रो के अनुरूप कृषि यंत्र उपलब्ध कराने के साथ ही जल संग्रहण टपक सिचाई एंव संरक्षित खेती के लिए प्रोत्साहित करना होगा । जिला अधिकारी ने कहा की हमारे लिए गर्व की बात है कि जनपद में दो बड़े प्रतिश्ठान भारत सरकार के यहा स्थापित है । जिसका लाभ यहा के किसानों को मिल रहा है ।

उन्होने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार ने किसानो की आय दोगुनी करने का जो संकल्प लिया है उसे साकार करने के लिए हमें किसानो की समस्योे का समाधान करना होगा वही दूसरी और किसानो को भी सरकार द्धारा चलायी जा रही योजनाओं का अधिकाधिक लाभ लेना होगा।

जिलाधिकारी ने कहा कि किसानों की सबसे बड़ी समस्या जंगली जानवरों से फसल को नुकसान पहुचाने की है। उसके लिए जनपद के अनेक क्षेत्रो में सुअररोधी दीवार बनाने के साथ ही अन्य कार्यवाही की जा रही है । उन्होने कहा कि किसानो को बेमौसमी सब्जी उत्पादन के साथ ही हल्दी अदरख की खेती की ओर ध्यान देना होगा। जिलाधिकारी ने इस अवसर पर प्रक्षेत्र का भ्रमण किया ओर अनेक बीजों व कृषि यंत्र के बारे जानकारी प्राप्त की उन्होने कहा कि विवेकानन्द कृषि  अनुसंधान संस्थान द्वारा नौलों का संरक्षण हेत जो कार्य किये जा रहे है वह सराहनीय व अनुकरणीय है। इसके आलावा नये कृषि यंत्रो का निर्माण यहा के अवष्यकता अनुसार किया जा रहा है जिससे किसानो को इसका लाभ मिल रहा है। उन्होने इस अवसर पर वहा पर लगी विभिन्न उत्पादों की प्रर्दशनी व विकास प्रर्दशनी का अवलोकन किया। इस अवसर पर संस्थान के न्यूज लैटर पर्वतीय कृषि दर्पण का विमोचन मुख्य अतिथि द्वारा किया गया।  उन्होंने कहा कि कृषि को बढ़ावा देने के लिए आजिविका, ग्राम्या, कृषि व उद्यान विभाग अपनी भूमिका निभा रहे है। जिलाधिकारी ने 7 जिलों से आये किसानो से अपील कि वे इस मेले से जाने के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में प्रेरक की भूमिका निभायेंगे। 


इस अवसर पर विवेकानन्द कृषि अनुसंधान संस्थान के निदेशक डा. ए. पटनायक ने संस्थान की गतिविधियों पर विषेश प्रकाश डालते हुए कहा कि संस्थान कृषकों की समस्याओं के निदान के लिए हमेषा तत्पर रहता है। साथ ही यहाॅ के अनुरूप कृषि सयंत्र व बीजों के बारे में किसानो के साथ समन्वय स्थापित कर उसके निदान हेतु कार्य करता आ रहा है। डा0 पटनायक ने संस्थान की अनेक उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि संस्थान स्वच्छता के प्रति विषेश ध्यान दे रहा है। विगत वर्ष संस्थान को स्वच्छता पुरस्कार से नवाजा गया है। 
इस अवसर पर संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा.जेके बिष्ट ने अनेक उन्नत बीजों के बारे में प्रकाश डाला और कृषकों से अधिकाधिक लाभ उठाने की बात कही। इस किसान मेले में संस्थान के अनुरोध पर साई अस्पताल हल्द्वानी द्वारा एक चिकित्सा कैम्प का भी आयोजन किया गया जिसमें भारी संख्या में लोगो के स्वास्थ्य का उपचार किया गया। इसके अलावा डा. लक्ष्मीकांत, डा.बीएम पाण्डे, एन0के0 हड़ाउ, डा0 पी0के0 मिश्रा, डा0 के0के0 मिश्रा, डा0 गणेष, पूर्व निदेषक जगदीष चन्द्र भटट, डा0 एन0के0 सिंह ने भी अपने विचार रखे। कमाण्डेंड आई0टी0बी0पी0 सतपाल ने जैविक उत्पादन को बढ़ावा देने की बात कही साथ ही उन्होंने कहा कि संस्थान का लाभ किसानो को मिले इसके लिए किसानो को जागरूक रहना होगा। महाप्रबन्धक दूरसंचार निगम अनिल कुमार गुप्ता ने कहा कि सुदूर ग्रामीण अंचलों तक दूरसंचार विभाग संचार की सुविधा उपलब्ध कराने का प्रयास कर रहा है ताकि किसान अपनी समस्याओं को संचार के माध्यम से भी उच्चाधिकारियों को अवगत करा सकेंगे।
इस कार्यक्रम में उपजिलाधिकारी विवेक राय, मुख्य कृषि अधिकारी प्रियंका सिंह, तेज बहादुर पाल, मनोज कुमार सहित अनेक वैज्ञानिक, बाहरी जनपदों से आये कृृषक व विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। इस कार्यक्रम का संचालन डा. निर्मल चन्द्रा ने किया।

Related posts

Almora- छात्रा प्रियंका ने कराया दुबई की कंपनी में आनलाइन रिलेक्स सेशन

Newsdesk Uttranews

नहीं थम रहा कोरोना (corona) का कहर: बीते 24 घंटे में देश में 4 हजार से अधिक मौतें, 3.62 लाख नये मामले

Newsdesk Uttranews

उत्तराखंड में होली मात्र एक पर्व नहीं एक परंपरा है।

Newsdesk Uttranews